Curd vs Urea 2 किलोग्राम दही करेगी 25 किलोग्राम यूरिया का मुकाबला

dahi vs urea
dahi vs urea

2 किलोग्राम दही करेगी 25 किलोग्राम यूरिया का मुकाबला

रासायनिक उर्वरक व कीटनाशक से होनेवाले नुकसान के प्रति किसान सजग हो रहे हैं। जैविक तकनीक की बदौलत  किसानों ने यूरिया से तौबा कर ली है | इसके बदले दही का प्रयोग कर किसानों ने अनाज, फल, सब्जी के उत्पादन में 25 से 30 फीसदी बढ़ोत्तरी भी की है |
25 किलोग्राम यूरिया का मुकाबला दो किलोग्राम दही ही कर रहा है | यूरिया की तुलना में दही मिश्रण का छिड़काव ज्यादा फायदेमंद साबित हो रहा है । किसानों की माने, तो यूरिया से फसल में करीब 25 दिन तक व दही के प्रयोग से फसलों में 40 दिनों तक हरियाली रहती है।

ऐसे तैयार होता दही का मिश्रण:-
गाय के दो लीटर दूध का मिट्टी के बर्तन में दही तैयार करें । तैयार दही में पीतल या तांबे का चम्मच, कलछी या कटोरा डुबो कर रख दें। इसे ढक कर आठ से 10 दिनों तक छोड़ देना है | इसमें हरे रंग की तूतिया निकलेगी । फिर बर्तन को बाहर निकाल अच्छी तरह धो लें । बरतन धोने के दौरान निकले पानी को दही में मिला मिश्रण तैयार कर लें । दो किलो दही में तीन लीटर पानी मिला कर पांच लीटर मिश्रण बनेगा।

जरूरत के अनुसार से दही के पांच किलो मिश्रण में पानी मिला कर एक एकड़ फसल में छिड़काव होगा। इसके प्रयोग से फसलों में हरियाली के साथ-साथ लाही नियंत्रण होता है | फसलों को भरपूर मात्रा में नाइट्रोजन व फॉस्फोरस मिलता होता है | इससे पौधे अंतिम समय तक स्वस्थ रहते हैं|