Basmati Rice Farming Formula 1121| बासमती धान की उन्नत खेती Enjoy

Basmati Rice Farming Formula Profitable Farming बासमती धान की उन्नत खेती

2,112

Basmati Rice Farming Formula Profitable Farming

सुगन्धित धान विश्व मेंअपनी विशिष्ट सुगंध तथा स्वाद के लिये भली-भाॅति जाना जाता है।बासमती धान की विश्व में माॅग तथा भविष्य में इसके निर्यात की अत्यधिक सम्भावनाओं को देखते हुये इसकी वैज्ञानिक व तकनीकी खेती काफी महत्वपूर्ण होगई है।इसके चावल में विशिष्ट सुगन्ध एवं स्वाद होने के कारण इनकी विभिन्न किस्मों काअलग-अलग महत्व है।बासमती धान की पारम्परिक प्रजातियाॅ प्रकाश सम्बेदनशील, लम्बी अवधि तथा अपेक्षाकृत अधिक ऊॅचाई वाली होती हैं जिस से बासमती धान की उपज काफी कम होती है परन्तु बासमती धान की नई उन्नत किस्में अपेक्षाकृत कम ऊॅचाई, अधिक खाद एवं उर्वरक चाहनेवाली व अधिक उपज देने वाली होती हैं। बासमती धान कीअच्छी पैदावार एवं गुणवत्ता के लिये निम्नलिखित शस्य क्र्रियायें अपनायी जानी चाहिये।

Basmati Rice Farming Formula | बासमती धान की उन्नत खेती
Basmati Rice Farming Formula | बासमती धान की उन्नत खेती

भूमि का चयनः बासमती धान की खेती के लिये अच्छे जल धारण क्षमता वाली चिकनी या मटियार मिट्टी उपयुक्त रहती है। भूमि की संरचना, जलवायु एवं अन्य सम्बन्धी कारक बासमती धान की सुगन्ध एवं स्वाद को अत्यधिक प्रभावित करते है।

प्रजातियों का चयनः  अच्छी पैदावार व उत्तम गुणवत्ता लेने के लिये अच्छी प्रजाति का चुनाव अत्यन्त महत्वपूर्ण है जिसमें निम्नलिखित गुण होना अनिवार्य हैः-
अ) अधिक पैदावार देने वाली हो।
ब) उत्तम गुणवत्ता युक्त हो।
स) कीट व रोग के लिये प्रतिरोधी हो।
द) कम ऊॅचाई तथा कम समय में पकने वाली हो।
य) बाजार में अधिक मांग एवं अच्छी कीमत अदा करने वाली होनी चाहिये।
रोपाई के समय के अनुसार अगेती, पछेती तथा उपरोक्त गुणों वाली प्रजाति के शुद्ध एवं अधिक अंकुरण क्षमता वाले बीज का चयन करना अच्छी पैदावार के लिये आवश्यक है।

बीजशोधनः

नर्सरी डालने से पूर्व बीज शोधन अवश्य कर लें।इस के लिये जहां पर जीवाणु झुलसाया जीवाणुधारी रोग की समस्या हो वहां स्ट्रेप्टोमाइसिनसल्फेट 40 प्रतिशत़़ टेट्रासाइक्लिन हाइड्रोक्लोराइड 10 प्रतिशत की 4 ग्राम मात्रा/25 किग्रा. बीज की दर से 100 लीटर पानी में मिलाकर रातभर भिगो दें।दूसरे दिन घोल से निकालकर छाया में भर कर या सूखाकर नर्सरीडालें।यदि शाकाणु झुलसा की समस्या क्षेत्रों में नही है तो 25 किग्रा. बीज को रात भर पानी में भिगोने के बाद सरे दिन निकालकर अतिरिक्त पानी निकल जाने के बाद 62.5 ग्राम थीरमया 50 ग्राम कार्बेन्डाजिम को पानी में मिलाकर बीज में मिला दिया जाये।इसके बाद छाया में अंकुरित कर के नर्सरी में डाली जाये । बीज शोधन हेतु बायोपेस्टीसाइडं का प्रयोग किया जाये।

बीज की मात्रा तथा बीजोपचारःप्रजाति के अनुसार बासमती धान के लिये 25-30 किग्रा. बीज की मात्रा/हे0 पर्याप्त होती है। 2 पौधशाला/पौधे की तैयारी: पौधे की तैयारी के लिए अच्छी जल निकासी और सिंचाई स्रोतों के पास उपजाऊ भूखंडों का चयन किया जाना चाहिए और यह सुनिश्चित करने के लिए ध्यान रखा जाना चाहिए कि खेत के पास कोई छायादार पेड़ न हो। 700 वर्ग मीटर क्षेत्र में 1 हेक्टेयर खेत में रोपण के लिए पौधे तैयार किए जा सकते हैं। बीज बोने का उपयुक्त समय जल्दी पकने वाली किस्मों के लिए जून का दूसरा भाग और देर से पकने वाली किस्मों के लिए मध्य जून तक है।

पोधोश्मिश्र में अच्छी तरह से पोस्टेडखादयावर्मी कंपनी के मालिक की तरह अच्छी तरह से पोस्टेड कोमाईं प्रबंधनीय अच्छी तरह से अच्छी गुणवत्ता वाली कंपनी.तको पैंतसेभरकर दोया एंटा जुताई करकेपटाला अच्छी तरह से अच्छी तरह से तैयार की जाती है

कीट रोगों का उचित प्रबंधन और खरपतवार नियंत्रण किया जाना चाहिए।

रोपण का समय:

बासमती चावल की बुवाई का समय इसकी उपज और गुणवत्ता को प्रभावित करता है पूसा बासमती-1 किस्म को पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जुलाई के पहले सप्ताह तक बोया जाना चाहिए और इस किस्म को पूर्वी उत्तर प्रदेश में 15 जुलाई तक बोया जाना चाहिए।पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जुलाई के अंतिम सप्ताह में और पूर्वी उत्तर प्रदेश में अगस्त के पहले पखवाड़े में तरवानी, बासमती और अन्य किस्मों की बुवाई करनी चाहिए।
रोपण के लिए खेत की तैयारी: गर्मी की जुताई के बाद, रोपण से 10 से 15 दिन पहले खेत में पानी देने से पिछली फसल के अवशेष नष्ट हो जाते हैं। बासमती धान की रोपाई के लिए 25-30 दिन पुराने पौधे उपयुक्त होते हैं। 20×15 सेमी. 15×15 सेमी की दूरी पर दो से तीन पौधे। पारंपरिक बासमती किस्मों को सिंचित क्षेत्रों में नहीं बोना चाहिए, इससे धान की गुणवत्ता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

कम्पोस्ट एवं उर्वरक : कम्पोस्ट एवं उर्वरक का प्रयोग मृदा परीक्षण के बाद करना चाहिए।सुगंधित/बासमती चावल में उर्वरक और उर्वरक की आवश्यकता आम चावल की तुलना में आधी होती है। हालांकि, नई उन्नत किस्मों की कम लंबाई के कारण, नाइट्रोजन की मांग पारंपरिक किस्मों की तुलना में अधिक है। नाइट्रोजन (200 किग्रा। यूरिया या 500 किग्रा। अमोनियम सल्फेट), 40 किग्रा। फास्फोरस (250 किग्रा। सिंगलसुपरफॉस्फेट) और 30 किग्रा। पोटाश (50 किग्रा. मुरेटोफपोटाश) डालना चाहिए। पारंपरिक किस्मों में, 50-60 किग्रा। खेत की तैयारी के दौरान जिंक, फास्फोरस और पोटाश की कुल मात्रा का प्रयोग करना चाहिए। 25-30 किग्रा. खेत की तैयारी के दौरान जिंक सल्फेट प्रति हेक्टेयर की दर से डालना चाहिए।
बासमतीधान की स्वास्थ्यपरक कम्मेंट कमे ने केकारणों की लाइफ़ केनिकेटा केलिये पोस्ट किया है।

सिंचाई प्रबंधन

धान की फसल को सबसे अधिक सिंचाई की आवश्यकता होती है, इसलिए धान की फसल केवल पानी की उचित उपलब्धता वाले स्थानों पर ही उगाई जाती है। अनुचित जल प्रबंधन के कारण इसकी उपज काफी कम हो जाती है। खेत में जल स्तर अनाज बनने के चरण तक बनाए रखा जाना चाहिए।अपर्याप्त वर्षा की स्थिति में अधिक उपज के लिए आवश्यकतानुसार निरंतर सिंचाई आवश्यक है। कटाई से 15 दिन पहले खेत को सूखा देना चाहिए ताकि अगली फसल सही समय पर बोई जा सके।
खरपतवार नियंत्रण/प्रबंधन

प्रमुख खरपतवार

जलभराव की स्थिति में: होरा घास, बुल्रश, छाता मोथा, कंद मोथा, जल वर्षा सीम आदि।
सिंचित अवस्था में : साकरी के पत्ते-सनवा, सांवाकी, बूटी, मकर, कांजी, बिलुवाकांजा आदि।
चैड़ीपट्टी: मिर्चबूटी, फूलबूटी, पानपट्टी, बोनझोलकिया, बम्भोली, घरिला, ददमरी, साथिया, कुसल आदि।
नियंत्रण उपाय:-
फसल द्वारा : फसल द्वारा खरपतवारों के नियंत्रण के लिए गर्मियों में मिट्टी के टिपिंग हल से गहरी जुताई, फसल चक्र अपनाना, हरी खाद, हलवा आदि का प्रयोग करना चाहिए।

यांत्रिक विधियाँ: इसके अंतर्गत कुदाल आदि से निराई करके भी खरपतवारों को नियंत्रित किया जा सकता है।
रासायनिक विधि: इसके अंतर्गत फसल की बुवाई/रोपाई के बाद अनुशंसित मात्रा में विभिन्न खरपतवार नियंत्रण रसायनों का प्रयोग किया जाता है जो तुलनात्मक रूप से कम खर्चीला होने के कारण अधिक लाभदायक और स्वीकार्य है।
नर्सरी में खरपतवार नियंत्रण के लिए प्रीटीलाक्लोर 30.7 प्रतिशत ई.सी. 500 मिली0 प्रति एकड़ 5-7 किग्रा की दर से। बालू डालें और नर्सरी को पर्याप्त नमी वाली स्थिति में रखने के दो से तीन दिनों के भीतर उपयोग करें।सीधी बुवाई की स्थिति में प्रीटिलाक्लोर से 30.7 प्रतिशत ई.सी. 1.25 लीटर बुवाई के 2-3 दिनों के भीतर या 15-20 दिनों के बाद 0.20 लीटर बिस्पायरीबैक्सोडियम के साथ 0.20 लीटर प्रति हेक्टेयर की दर से लगभग 500 लीटर पानी में घोलकर फ्लैट पंखे से छिड़काव किया जाता है।

रोपाई के समय संकरी एवं चौड़ी पत्ती वाले खरपतवारों के नियंत्रण हेतु निम्न में से किसी भी रसायन की संस्तुत मात्रा को लगभग 500 लीटर पानी प्रति हेक्टेयर में घोलकर रोपाई के 3-5 दिनों के भीतर समतल फन्ना जिले से 2 इंच पानी में छिड़काव करना चाहिए: –
(1) बुटाक्लोर 50 प्रतिशतE0C0 3-4 लीटर
(2) अनिलोफ़ेज़ 30 प्रतिशतE0C0 1.25-1.50 लीटर
(3) प्रीटिलाक्लोर 50 प्रतिशतई0सी0 1.60 लीटर
(4) पायराज़ोसल्फुरानेथिल 10 प्रतिशतW0P0 0.15 लीटर
(5) बिसपायरीबैक्सोडियम 10 प्रतिशत एससी 0.20 लीटर नम परिस्थितियों में 15-20 दिनों के बाद।चौड़ी पत्ती वाले खरपतवारों के नियंत्रण के लिए निम्नलिखित रसायनों में से किसी एक की अनुशंसित मात्रा को लगभग 500 लीटर पानी में घोलकर प्रति हेक्टेयर समतल फन्ना जिले से बिजाई के 25-30 दिन बाद छिड़काव करना चाहिए:

(1) मेटसल्फुरोनमिथाइल 20 प्रतिशतW0P0 20 g
(2) एथैक्सिसल्फ्यूरॉन 15 प्रतिशतW0P0G0 100 g
(3) 2,4-डायथाइलस्टर 38 प्रतिशतई0सी0 2.5 लीटर
कीट और रोग नियंत्रण: अन्य अनाज की फसलों की तुलना में धान की फसल में कीट और रोग सबसे अधिक नुकसान पहुंचाते हैं। बासमती चावल में कीटों और बीमारियों के प्रकोप से उपज के साथ-साथ गुणवत्ता में भी कमी आती है जिसके परिणामस्वरूप किसानों की भारी आय होती है।

निम्नलिखित कीट बासमती धान को नुकसान पहुँचाते हैं:-(1) चावल का भूरा वसा सफेद ठगना
(2) चावल की छलनी
(3) बदबूदार कीड़े
(4) चावल के पत्ते का आवरण
बासमती चावल के खराब होने के मुख्य कारण निम्नलिखित रोग हैं:-
(1) चावल तुड़ाई (विस्फोट) रोग
(2) धनकभुराधब्बा रोग
(3) चावल की पत्ती कवर झूला रोग
(4) राइस बैक्टीरियल लीफ बर्न डिजीज
(5द्द्धनकखैरारोग
(6) चावल की पत्ती आवरण पिघलने की बीमारी
(7) चावल झूठी खुजली रोगचावल की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए उपर्युक्त कीट रोगों के लिए रासायनिक और जैविक साधनों का उचित मिश्रण उपयुक्त माना जाता है।जैविक नियंत्रण भी चावल के अनुकूल कीटों की संख्या को बनाए रखता है।

तना बेधक के नियंत्रण के लिए फेरोमोन ट्रैप 20 ट्रैप प्रति हेक्टेयर की दर से 20×25 मीटर की दूरी पर खेत में लगाना चाहिए। और जैसे-जैसे फसल बढ़ती है, इसकी ऊंचाई फसल की ऊंचाई से 25-30 सेंटीमीटर ऊपर होनी चाहिए। यदि एक मादा कीट या 5-6 प्रतिशत मृत पौधे प्रति वर्ग मीटर खेत में (अंकुर से निकलने तक) पाए जाते हैं, तो 4 ग्राम डालें। याफिप्रोनिल 0.3 ग्राम। प्रतिशत (दानेदार पाउडर) 18 किलो। मात्रा को खेत में अच्छी तरह फैला देना चाहिए और 3-4 सें.मी. उबालने और फूटने के बाद 1 लीटर फाइप्रोनिल 5% घोल डालें।

140केडचापतीलपेतककीटहृदय इंजन के लिए विंडसरपतीलपेतककीटके डब्‍लू. प्रतिहे। किदारसेर फाइप्रोएनिल 5 प्रतिशत 1.5 लीटर प्रति हेक्टेयर। किस दर से छिड़काव करना चाहिए। जीवाणु जलने की बीमारी को रोकने के लिए पानी नहीं देना चाहिए।रोग गंभीर होने पर 15 ग्राम स्ट्रेप्टोमाइसिन सल्फेट 90 प्रतिशत, टेट्रासाइक्लिन हाइड्रोक्लोराइड 10 प्रतिशत, 500 ग्राम कॉपर ऑक्सीक्लोराइड 500 लीटर पानी में मिलाकर प्रति हेक्टेयर देना चाहिए। कीदरसेप्रयोग कमानाह.पर्णाच्छद जुलसा, पडकड़ने का हलवा.
कटाई और थ्रेसिंग: बासमती/सुगंधित धान के 90 प्रतिशत से अधिक दानों की कटाई तब करनी चाहिए जब रंग बाहर से पीले से सुनहरे हरे रंग में बदल जाए।

=======================================================================================

Article Submitted By :-

दिव्या सिंह और अतिश यादव
पीएच.डी स्कॉलर

Note

despite  of that  if  there is  any  query please feel free  contact us  or  you can  join  our  pro  plan with  rs  500 Per  month , for latest  updates  please visit our modern kheti website www.modernkheti.com  join us  on  Whatsapp and Telegram  9814388969.   https://t.me/modernkhetichanel

tags
basmati farming, basmati rice, basmati rice farming, Basmati Rice Farming Formula, pusa basmati 1692, अधिक उत्पादन की बासमती धान, धान की खेती, धान की खेती कैसे करें ?, बासमती धान की उन्नत खेती, बासमती धान की खेती करते समय ध्यान रखने योग्य बातें

Comments are closed.